Call : +91-9473369943,7488607677
Email : jhadrshivlochan@gmail.com

नागार्जुन उमेश संस्कृत महाविद्यालय
NAGARJUNA UMESH SANSKRIT MAHAVIDYALAYA
(A Constituent unit of Kameshwar Singh Darbhanga Sanskrit University)

WELCOME TO NAGARJUNA UMESH SANSKRIT MAHAVIDYALAY, TARAUNI, DARBHANGA

नागार्जुन उमेश संस्कृत महाविद्यालय, तरौनी, दरभंगा राजा जनक- याज्ञवलक्य- गौतम- कपिल- कणाद से परिपूत मिथिलांचल की भूमि पर दरभंगा जिला के बेनीपुर अनुमण्डलान्तर्गत तरौनी गाँव में स्थित है | यह महाविद्यालय जिला मुख्यालय दरभंगा से ३० किलोमीटर उत्तर- पूर्व दिशा में सकरी स्टेशन से 5 किलोमीटर दक्षिण, सकरी- धरौडा मुख्य मार्ग के पशिचम 1 किलोमीटर पर स्थित है |

तरौनी गाँव प्राचीनकाल से संस्कृत विद्या की सिद्धभूमि रही है | यहाँ जिस प्रकार सिद्ध पुरुषों की परम्परा रही है वैसे ही पाण्डित्य परम्परा भी देश में प्रख्यात है | सिद्ध पुरुषों में महँ वैष्णव संत कवी विष्णुपुरी, होरायि झा, विष्णुदत झा, महात्मा रोहिणी डट गोसाँई, रघुवर गोसाँई, कमलादत गोसाँई आदि प्रमुख थे | पाण्डित्य परम्परा में परशुराम झा, महावैयाकरण जगदीश झा, गणपति झा, नरपति झा, राम झा, भोलानाथ झा, शम्भुनाथ झा, वैयाकरण केसरी चंद्रमणि झा, चिरंजीवी मिश्रा, महामहोपाध्याय परमेश्वर झा, नैयायिक रविनाथ ठाकुर, वैयाकरण कृष्णकांत झा, शोभाकांत झा, ज्योतिषी बबुआ झा, वैयाकरण इंद्रनाथ मिश्रा, उमाकांत झा, ज्योतिषी भागीरथ झा, लक्ष्मीकांत झा, शास्त्रार्थ दिवाकर प. जयदत झा, प. अनंत लाल झा, प. अवधि झा, विद्यावाचस्पति प. उपेन्द्र झा, वैयाकरण सुरेन्द्र झा, प. रामचंद्र झा, आदि सैकड़ों संस्कृत के मनीषी देश में विख्यात हुए | प. वैद्यनाथ मिश्रा "यात्री" जो नागार्जुन के नाम से विश्व में प्रसिद्ध हुए इसी गाँव के थे | इनका जन्म शिक्षा- दीक्षा एवं लेखन गाँव से ही आरम्भ हुआ | |

संस्कृत भाषा में रचित विभिन्न विषयों के ग्रंथों के प्रचार- प्रसार एवं संवर्धन हेतु तत्कालीन पंडितों ने प्रख्यात समाजसेवी श्री उमेश झा के आर्थिक सहयोग से १९७० में उमेश संस्कृत महाविद्यालय कि स्थापना उनके द्वारा दी गई दानभूमि पर की | २.६५ एकड़ में स्थापित यह महाविद्यालय कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय के अंगीभूत इकाई है |

उमेश संस्कृत महाविद्यालय, तरौनी, दरभंगा के नाम से स्थापित यह महाविद्यालय वि. वि. पत्रांक - 10139/12, दिनांक - 17 जुलाई 2012 से नागार्जुन उमेश संस्कृत महाविद्यालय, तरौनी, दरभंगा के नाम से जाना जाता है |

© 2019. All rights Reserved. Developed & Designed By : Parasnath Multiservices Pvt. Ltd.